दिमाग़ के इन नियमों को जान लो ज़िंदगी में कभी मार नहीं खाओगे | Brain Rules for successful life

Word_Wizard

एक सफल व्यक्ति ने कहा हैं कि इंसान इसलिए हारता हैं क्योंकि वो सही तरह से निर्णय नहीं ले पता हैं और ऐसा तभी होता हैं जब किसी को अपने दिमाग़ का उपयोग ठीक से करना नहीं आता हो। अगर इंसान को अपने दिमाग़ का सही से उपयोग करना आ जाए तो वो कभी मार नहीं खा सकता। उसके लिए जीवन में कोई भी काम को करना बहुत ही आसान हो जाता हैं। उसके दिमाग़ पर उसका नियंत्रण बना रहता हैं। आईए जानते हैं कुछ दिमाग़ के नियमों के बारे में जिनसे आप अपने दिमाग़ को समझ पाएंगे।

कसरत करना– कसरत करने से हमारे दिमाग़ कि शक्ति में बढ़ोतरी होती हैं। हमारे शरीर के हर कोने तक ब्लड अच्छी तरह से पहुँच पता हैं। इससे इंसान की सोचने कि शक्ति और उसमें रचनात्मकता बढ़ती हैं। जो व्यक्ति रोज़ाना कसरत करते हैं उसकी सोचने और सीखने की शक्ति बाक़ी लोगों से काफ़ी अधिक होती हैं।

अच्छी नींद– बहुत से लोग नींद को इतना महत्व नहीं देते हैं और पूरे दिन काम में लगे रहते हैं। काफ़ी लोगों का सोने का तरीक़ा भी ग़लत होता हैं हर रोज़ अलग अलग समय पर सोने से स्लीप साइकिल ख़राब होती हैं। हमें हमेशा पूरी तरह से अच्छी नींद लेनी चाहिए। अच्छी नींद लेने से हमारे शरीर अच्छा महसूस करता हैं जिससे हमें फोकस और सोचने में कोई दिक्कत नहीं होती। दिन में भी एक बार थोड़ी देर सोने से हमारी काम करने की शक्ति बढ़ जाती हैं।

तनाव– हमेशा तनाव में रहने से दिमाग़ पर काफ़ी गंदा प्रभाव पड़ता हैं। इससे हमें हार्ट अटैक आने का भी ख़तरा रहता हैं। तनाव हमें पूरे दिन परेशान रखता हैं और सफलता के रास्ते भी बंद कर देता हैं। रोज़ के लड़ाई झगडो से हम दिन के बाक़ी कामों में अच्छी तरह से मन नहीं लगा पता और वो ठीक से नहीं कर पाते। इसलिए हमें अपने दिमाग़ को शांत रखना चाहिए और फ़ालतू के झगडो से दूर रहना चाइए।

चीज़ों को दोहराना– अगर हमें किसी भी चीज़ को लम्बे समय तक याद रखना है तो उसको बार बार थोड़े थोड़े समय में दोहराने से वो हमें अच्छी तरह से याद हो जाती हैं जिससे उससे हम काफ़ी समय तक नहीं भूलते हैं। हमारा दिमाग़ छोटे समय में ही चीज़ों को भूलना शुरू कर देता हैं। इसलिए ज़रूरत की चीज़ों को दोहराने से ही वो हमें याद होती हैं।

देखना और पढ़ना– पढ़ी हुई चीज़ों से बेहतर है किसी भी चीज़ को देखना इससे हमारे दिमाग़ को जल्दी चीज़ें समझ आती हैं। जैसे कोई भी पढ़ी हुई किताब हमें इतनी अच्छी तरह से याद नहीं होती जितनी उसके ऊपर बनी फ़िल्म को देखने से वो याद होती हैं। इसलिए हमें प्रैक्टिकल पर ध्यान देना चाहिए।

गाने सुनना– गाने सुनने से दिमाग़ को अच्छा लगता हैं और वो पूरी तरह से काम कर पाता हैं। जो व्यक्ति जैसे गाने सुनता है वो उसके व्यवहार और चरित्र को दर्शाते हैं। गाने हमारी सोचने की शक्ति को बढ़ाते हैं और हमें बुद्धिमान बनाते हैं। अच्छे गाने हमारे दिमाग़ को ताज़ा महसूस करते हैं।

Share This Article
Follow:
I done my Bachelors from Delhi University and currently working as a editor on Biographyguru. You can reach me out on instagram.
Leave a comment